शरीरको यो हिस्सा बाट यसरी उडि -Rama Bhattrai

एक राज कि बात हैं
रात में निद नहि आति पएक राज कि बात हैं
रात में निद नहि आति पर
तुम्हारा खयाल आता हैं
ना जिने देता हैं ना मर्ने
अजिव कस्मकस हैं ए
दिन तो होता हैं हर रोज
पर उजाला कहि छोडकर आता हैं
पता नहि क्या दुस्मनी निभाता हैं
ए सबेरा मुझ्से
ना रास्ता दिखाता हैं ना चल्ने देता हैं
थक सा गाया हु हर रोज तुम्हे पुकारके
कहाँ हैं तु ए मेरे खुदा
जरा नजर तो आ जा
बहोत सि बातें हैं मुझे पुछना तुझसे
कभि तो आसमान से उतरकर आ जा ।र
तुम्हारा खयाल आता हैं
ना जिने देता हैं ना मर्ने
अजिव कस्मकस हैं ए
दिन तो होता हैं हर रोज
पर उजाला कहि छोडकर आता हैं
पता नहि क्या दुस्मनी निभाता हैं
ए सबेरा मुझ्से
ना रास्ता दिखाता हैं ना चल्ने देता हैं
थक सा गाया हु हर रोज तुम्हे पुकारके
कहाँ हैं तु ए मेरे खुदा
जरा नजर तो आ जा
बहोत सि बातें हैं मुझे पुछना तुझसे
कभि तो आसमान से उतरकर आ जा ।

2
उड्दैछ मन तिमी तिरै
नजा ए मन
शरीरको यो हिस्सा बाट यसरी उडि
कहाँ मान्छ र सुन्दैन कहिल्यै
म भित्रको यो मन झन कति जिद्दी ।।
रोक्न खोज्छु यो धड्कनलाई
सक्दिन कुनै हालतमा
के मोहनी छ कुन्नी तिमीमा
पखेटा लगाउदै छ यो मनले ।।
सुटुक्क सुटुक्क मलाइ छलेर
उडदै छ आज भोलि
तलास मात्र तिम्रो गर्न थाल्यो
अब न रोकिन्छ यो न अडिन्छ ।।
के भएको थाहा छैन मलाइ
हजारौ माइलको दुरि एक्लै एक्लै पार गर्दै
तिम्रो चित्र चुम्दै आउँछ फेरि
कसरी नियन्त्रणमा राखौ अब ।।
सुनेको थिए मनलाई बाध्न सकिँदैन रे
साच्चै आज म यो धड्कनमा
तिमी मिसाउदै गरेको यो मनलाई
कसै गरि नियन्त्रण गर्न सकिरहेको छैन ।।
साच्चै गार्हो हुदो रहेछ
मनमा कोहि पसे पछि निकाल्न
दुरि मनले किन स्विकार्दैन अचम्म छु
कस्तो खास बनाको रहेछ यो मनले तिमिलाइ ।।

your one feedback help us to work even harder

%d bloggers like this: